Followers

Friday, May 3, 2013

अनुपम संगम



एक मैं हूँ कि
दावा करती रहती हूँ
अपने प्यार का ,
और एक तुम हो
जिसने मुझे एक पल मे
पराया कर दिया ,
कितना अनुपम संगम है
मेरे अनुराग और
तुम्हारे विराग का /

रेवा


12 comments:

  1. बिल्कुल सच कह दिया

    ReplyDelete
  2. ऐसा नहीं होता , प्यार में कोई पराया नहीं होता कोई मज़बूरी भी हो सकती है ....:)

    ReplyDelete
  3. Very well expressed,Reva.
    Vinnie

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ...........

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बेहतरीन अभिव्यक्ति,आभार.

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत सुंदर और मन की सच्ची बात कही है
    बधाई

    ReplyDelete
  7. मेरे अनुराग
    और.........
    तुम्हारे विराग का
    अद्भुत....

    ReplyDelete
  8. मेरा अनुराग...तुम्हारा विराग..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete