Followers

Tuesday, August 7, 2018

इन्वेस्टमेंट


ऐसा नहीं की
इन बीतते सालों में
तुम बिल्कुल नहीं बदले
बदले तो हो
पर मुश्किल ये है की
तुम मुझे
समझ नहीं पाते ,

चलो न समझो
पर ये तो जानो की
मुझे क्या पसंद है
क्या नापसंद
मैं जानती हूं न  ....
तुम्हरी पसंद नपसंद
तो तुम क्यों नहीं ? ?
क्या बहुत मुश्किल है ये ??
अगर है तो बोलो पूछो
मैं सब बताउंगी ....

हंसी आती है
मुझे कभी कभी !!
जब तुम
मुझे अच्छा
लगाने के लिए
ऐसी हरकत करते हो
जिसका उस समय
कोई मतलब नहीं
निकलता
उसकी बजाय
थोड़ा सा प्यार ही जता दो
चाहे जो भी स्थिति हो
मुझे ख़ुशी मिल जाएगी 

वैसे जानते हो
ज्यादा भारी भरकम 
ख्वाहिशें नहीं है मेरी
प्यार और ख्याल बस
इन दो से उम्र भर खुश रहूंगी मैं
मज़े की बात है की
इसमे कुछ खर्च नहीं होता
बल्कि इस इन्वेस्टमेंट में
रिटर्न्स डबल होते हैं जनाब !!!


#रेवा
#तुम 

2 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन यारी को ईमान मानने वाले यार को नमन और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete